आत्मरक्षा प्रशिक्षण से अपराधों में आएगी कमी-मेहता 
सेवा भारती ने शुरू किया अस्मिता स्वयं रक्षा अभियान 


जयपुर। देश में ज्यादातर टीजिंग व दुष्कर्म जैसी घटनाएं और उसके बाद पीडि़ता को चुप रहने और दूसरों से दूरी बनाने की सलाह तो दी जाती है, लेकिन लड़कियों को आत्मरक्षा के लिए तैयार नहीं किया जाता। ऐसे में सेवा भारती द्वारा उन्हें आत्मरक्षा की ट्रेनिंग देने के लिए अस्मिता स्वयं रक्षा मिशन शुरू किया गया है। शुक्रवार को अम्बाबाड़ी स्थित आदर्श विद्या मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में प्रशिक्षकों द्वारा किशोरियों को आत्मरक्षा की ट्रेनिंग दी गई। 

 

कार्यक्रम की मुख्य अतिथि सिमरन मेहता ने कहा कि इस प्रकार के प्रशिक्षणों से महिलाओं में आत्मरक्षा के प्रति जागरूकता आने के साथ ही उनके प्रति बढ़ते अपराधों एवं शोषण में कमी आएगी, जिससे सशक्त भारत का निर्माण होगा। कार्यक्रम संयोजक कृष्णा बागड़ा और संचालक सीमा दया ने बताया कि आधुनिकता की परिकल्पना यही है कि आप शत प्रतिशत सुरक्षित हों, अपने परिवार, समाज और देश व धर्म की रक्षा कर सकें। 

 

सेवा भारती के क्षेत्रीय महिला मंडल प्रमुख अनिल शुक्ला ने बताया कि अस्मिता स्वयं रक्षा अभियान के तहत जिला स्तर पर भी लड़कियों को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण दिया जाएगा। कार्यक्रम में स्कूल-कॉलेजों की सैकड़ों छात्राओं ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। जहां जूडो-कराटे एक्सपर्ट, फिजिकल ट्रेनिंग, डॉक्टर ऑन हाईजीन मिमिक्री नाटिका आदि कार्यक्रम आयोजित हुए। कार्यक्रम में सेवा भारती के क्षेत्रीय अध्यक्ष कैलाश शर्मा, संगठन मंत्री मूलचंद सोनी, गोविंद अरोड़ा आदि उपस्थित थे।