डिजिटल प्रणाली से जुड़कर राजसमन्द विविध क्षेत्र में अग्रणी भूमिका निभाएगा - सांसद दीयाकुमारी



मोदी सरकार की राजसमन्द को बड़ी सौगात, पूरे देश में वाराणसी, पटना और राजसमन्द का चयन। 

 

 

 

राजसमन्द। सांसद दीयाकुमारी ने कहा की केंद्र सरकार ने राजसमन्द जिले के ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों को डिजिटल गावँ योजना से सम्बद्ध करके एक बड़ी सौगात दी है। भारत सरकार के सूचना प्रौद्योगिकी और संचार मंत्रालय द्वारा राजसमन्द जिले को डिजिटल गांव योजना के तहत चयनित किये जाने पर सांसद दीयाकुमारी ने मोदी सरकार का आभार व्यक्त करते हुए कहा की पूरे देश के तीन जिलों में से एक राजसमन्द का चयनित होना खुशी और गर्व की बात है। डिजिटल प्रणाली से जुड़कर राजसमन्द विविध क्षेत्र में अग्रणी भूमिका निभाएगा वहीं विद्यार्थियों और युवाओं को डिजिटल शिक्षा के साथ विभिन्न योजनाओं को जानने का भी मौका मिलेगा।

 

सूचना प्रौद्योगिकी और संचार मंत्रालय भारत सरकार (कॉमन सर्विस सेण्टर ) डिजिटल गाँव योजना के तहत देश में तीन जिलों का चयन पुर्णतया डिजिटल गाँव बनाने के लिए किया गया है। पूरे देश में सिर्फ तीन ही जिलों का ही चयन हुआ है, जिसमें राजसमन्द के अलावा वाराणसी और पटना है। वाराणसी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का, पटना केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद का और राजसमन्द सांसद दीयाकुमारी का लोकसभा क्षेत्र है। 

 

संसदीय क्षेत्र मीडिया संयोजक मधुप्रकाश लड्ढा ने बताया कि सूचना प्रौद्योगिकी और संचार मंत्रालय भारत सरकार (कॉमन सर्विस सेण्टर ) द्वारा  राजस्थान से एकमात्र  राजसमन्द जिले का भी इस योजना के तहत चयन हुआ है।  जिसकी प्रत्येक ग्राम पंचायत को एच डी एफ  सी बैंक (सीएसआर) के सहयोग से डिजिटल गॉँव बनाया जाएगा। 

 

राजसमन्द में शुरुआत दिनांक 18 फ़रवरी को

 

मुख्य अतिथि के रूप में सांसद दीयाकुमारी डिजिटल गावँ जन कल्याणकारी योजना का शुभारम्भ करेगी। योजना की शुरुआत अणूव्रत सभागार राजसमन्द (सर्किट हाउस) से की जाएगी जिसका कार्यन्वयन कॉमन सर्विस सेण्टर द्वारा किया जा रहा है। साथ ही इसी दिन सी. एस. सी. अकादमी द्वारा राजसमन्द जिले के दूर दराज के इलाकों में शहर जैसी शिक्षा पद्दति पहुँचाने के लिए जिले को एक मोबाइल प्रशिक्षण वाहन भी समर्पित किया जाएगा।