निर्यात को बढ़ावा देने के लिए वन डिस्ट्रीक्ट-वन प्रोडक्ट की बनेगी रणनीति - मुख्य सचिव गुप्ता


जयपुर। मुख्य सचिव  डीबी गुप्ता ने वन डिस्ट्रीक्ट-वन प्रोडक्ट निर्यात लक्ष्य की रणनीति बनाते हुए प्रदेष से निर्यात को बढ़ावा देने के निर्देष दिए हैं। उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर निर्यात संभावनाओं को तलाषते हुए प्रदेष से निर्यात को प्रोत्साहित किया जाएगा।
मुख्य सचिव श्री गुप्ता सोमवार को सचिवालय में राजस्थान निर्यात संवर्द्धन समन्वय परिषद की पहली बैठक को संबोधित कर रहे थे। प्रदेष से वस्तुओं के निर्यात के साथ ही सेवाओं के निर्यात की ठोस रणनीति तैयार की जाएगी और इसके लिए चैंपियन सर्विस सेक्टर चिन्हित किए जाएंगे।
मुख्य सचिव श्री गुप्ता ने कहा कि प्रदेष से निर्यात की विपुल संभावनाओं का दोहन किया जाना है और इसके लिए संबंधित विभागों को परस्पर सहयोग व समन्वय के साथ काम करना होगा।
अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि राजस्थान निर्यात संवर्द्धन समन्वय परिषद का मुख्य कार्य प्रदेष से निर्यात को बढ़ावा देने के लिए आवष्यक व्यवस्था, मार्गदर्षन और सहयोग से समन्वित प्रयासों के साथ ही निर्यात मंे आने वाली बाधाओं को दूर करना है। उन्होंने बताया कि यह समन्वय परिषद औद्योगिक संगठनों, केन्द्र व राज्य सरकार के संबंधित विभागों व उपक्रमों से समन्वय स्थापित करने के साथ ही प्रदेष में आवष्यक आधारभूत सुविधाओं का सृजन करेगी।
उद्योग आयुक्त श्री मुक्तानन्द अग्रवाल ने बताया कि प्रदेष से 2018-19 में 51 हजार करोड़ रु. से अधिक का निर्यात हुआ है। उन्होंने बताया कि निर्यात क्षेत्र में इंजीनियरिंग, टेक्सटाइल, कृषि, जेम एवं ज्वैलरी, खनिज एवं मिनरल सहित विभिन्न क्षेत्रों से निर्यात हो रहा है। उन्होंने कहा कि राजस्थान निर्यात संवर्द्धन समन्वय परिषद के गठन से निर्यात मे और अधिक बढ़ोतरी होगी वही निर्यात को नई दिषा मिल सकेगी।
श्री अग्रवाल ने बताया कि राजस्थान निर्यात संवर्द्धन परिषद के गठन की भी औपचारिकता अंतिम चरण में है और एक दो दिन मंे ही इसका रजिस्ट्रेषन हो जाएगा।
बैठक में  अतिरिक्त मुख्य सचिव परिवहन श्री राजीव स्वरुप, प्रमुख शासन सचिव खान व पेट्रोलियम श्री कुजीलाल मीणा, प्रमुख सचिव टूरिज्म श्रीमती श्रेया गुहा, सीसीटी श्रर प्रीतम यषवंत, एमडी रीको श्री आषुतोष पेडनेकर, सचिव पशुपालन डॉ राजेष शर्मा, सचिव पार्यावरण व वन डॉ. डीएन पाण्डे, विषिष्ठ सचिव वित श्री सुधीर शर्मा, प्रषासक कृषि विपणन बोर्ड श्री ताराचंद मीणा, संयुक्त सचिव कौषल विकास श्री आरसी बंसल, उर्जा श्री सीपी चांवला, संयुक्त निदेषक उद्योग एवं प्रभारी श्री पीआर शर्मा एवं मुख्य लेखाधिकारी राजसिको श्री अषोक आल्हा ने हिस्सा लिया।