कोरोना की रोकथाम के लिए गांव स्तर तक आई ई सी के दिए निर्देश

बीकानेर। जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने जिले के समस्त राजस्व अधिकारियों और चिकित्सा विभाग के अधिकारियों को कहा कि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए आमजन में जागरूकता जरूरी है। कोरोनावायरस को हम हरा सकते हैं जरूरत है जागरूक रहने की और इसके बचाव के लिए बताए जा रहे उपाय को अपनाने की। इसके लिए आईईसी जरूरी है ऐसे में हम सबको मिलकर सामूहिक प्रयास करने होंगे।



गौतम मंगलवार को राजीव गांधी सेवा केंद्र से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जिले के समस्त प्रशासनिक और चिकित्सा अधिकारियों से सीधी बातचीत कर रहे थे। उन्होंने सभी उपखंड अधिकारियों और तहसीलदारों को निर्देश दिए कि वे अपने-अपने क्षेत्र में ऐसे स्थानों का चिन्हीकरण कर लें जहां जरूरत पड़ने पर कोरोना से पीड़ित या कोरोना संदिग्ध व्यक्ति को आइसोलेशन के तहत रखा जा सके। उन्होंने कहा कि स्थान का चयन करते समय इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि उस जगह 10 व्यक्ति 28 दिन तक बेहतर तरीके से रह सके और इस दौरान उन्हें सभी आवश्यक सुविधाएं भी मिल सके।



गौतम ने कहा कि सभी अधिकारी अपने अपने क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों और गणमान्य लोगों से मिलकर उन्हें कोरोना वायरस से बचने के उपाय के बारे में विस्तार से बताएं अगर संभव हो तो ग्रामीण क्षेत्र के प्रमुख स्थानों पर पेंपलेट, बैनर होल्डिंग आदि लगाए जाएं ताकि लोगों को इस वायरस के बारे में जागरूक किया जा सके। चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग द्वारा जो पंपलेट छपवाए हैं वह भी ग्रामीण क्षेत्रों में आशा सहयोगिनी के माध्यम से घर-घर वितरित करवाए जाएं। शाॅर्ट फिल्मों के माध्यम से वाइरस से बचने तथा रोकथाम के उपाय के सम्बंध में आमजन को जागरूक करें।



  जिला कलक्टर ने कहा कि जिले की डूंगरगढ़, नोखा और कोलायत पंचायत समिति क्षेत्र का सर्वे करवाया जाएगा। जहां पर ऐसे लोगों के स्वास्थ्य का परीक्षण कराया जाएगा जिन्हें वर्तमान में हल्का जुखाम बुखार या गले में दर्द की शिकायत है। उन्होंने सभी अधिकारियों से कहा कि यदि उनके क्षेत्र में विदेशी पर्यटक घूमते देखें जाएं तो उनकी स्क्रिीनिंग किया जाना सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने सभी अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए अगर कोई व्यक्ति तेज बुखार, जुकाम और गले के दर्द की शिकायत करता है तो तत्काल उसका ब्लड सैंपल लेकर जांच करवाई जाए।



सार्वजनिक स्थानों पर लगेंगे हैंड सैनिटाइजेर



कोरोना वायरस से बचाव के लिए आम लोगों में जागरूकता और रोकथाम के लिए जिला प्रशासन तथा चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा शहर के कई स्थानों पर हैंड सैनटाइजर रखे गए हैं। जिला कलक्टर कुमार पाल गौतम ने राजीव गांधी सेवा केंद्र में सैनटाइजर प्वाइंट का उद्घाटन करते हुए लोगों से अपील की कि वे सेनेटाइजर का इस्तेमाल करें और अधिक से अधिक बार अपने हाथ धोएं और स्वयं भी संक्रमण से बचे और दूसरों को भी बचाएं।



50 से अधिक लोग ना हो इकटठे



जिला कलक्टर ने कहा कि वायरस से होने  वाले संक्रमण से बचाव के लिए जरूरी है कि सार्वजनिक आयोजनों में भीड़ इकठठी ना हो । उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजन नहीं होंगे जहां 50 से अधिक व्यक्ति एकत्र होने की संभावना हो। साथ ही सभी उपखंड अधिकारी यह भी सुनिश्चित करेंगे कि उनके क्षेत्र में यदि कोई धार्मिक आयोजन प्रस्तावित है तो अधिकारी आयोजकों से मिलकर आयोजन को स्थगित करने के लिए समझाइश करें।



200 टीमों ने किया 36 हजार से ज्यादा घरों का सर्वे



जिला कलक्टर ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि लोगों में भय की स्थिति ना बने, साथ ही मास्क सेनिटाइजर सहित सभी जरूरी उपकरणों एवं वस्तुओं की कालाबाजारी नहीं हो यह सुनिश्चित किया जाए। वीडियो काॅन्फ्रेसिंग में सभी उपखंड, विकास अधिकारी और चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी उपस्थित थे। वीडियो काॅन्फ्रेंस में बताया गया कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की 200 से अधिक टीमें सर्वे में जुटी है तथ 36 हजार 800 से ज्यादा घरों को सर्वे कर लिया गया। नोखा, लूणकरनसर और श्रीडूंगरगढ़ में सर्वे का काम शुरू कर दिया गया है। शेष ब्लाॅकों में भी शीघ्र ही सर्वें किया जाएगा।



सेना के अधिकारियों के साथ बैठक कर दिए निर्देश



जिला कलक्टर ने कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे के मद्देनजर सेना के अधिकारियों के साथ भी मंगलवार को बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। बैठक में जिला कलक्टर गौतम ने कहा कि ऐयरफोर्स, बीएसएफ और आरएसी में क्लोज कैम्पस की स्थिति होने के कारण अधिक सतर्कता रखने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि इन सभी कैम्पस में मेस, पीटी में इस प्रकार की व्यवस्था हो कि अधिक लोग एक साथ ना बैठे। गौतम ने कहा कि एयरफोर्स, बीएसएफ या सेना कैम्पस में लम्बी छुट्टी से लौटे कर्मचारी व अधिकारी का स्वास्थ्य परीक्षण करने के बाद ही प्रवेश दिया जाए। जांच के लिए नाल ऐयरबेस में प्रवेश स्थल पर चिकित्सा दल मौजूद रहेंगे।



जिला कलक्टर ने कहा कि बीएसएफ और ऐयरफोर्स कैम्पस में 50 बैड का आइसोलेशन वार्ड तैयार किया जाए जहां संदिग्धों को रखा जा सके। जिला कलक्टर ने कहा कि पेरशान होने की आवश्यकता नहीं है, बल्कि सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त हो यह सुनिश्चित किया जाए। बैठक में साकेत सौरभ, वंदना दहिया, संदीप दास, तृतीय आरएसी कमांडेट आईपीएस देवेन्द्र कुमार बिश्नोई सहित सेना के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।