नवसंवत्सर पर नहीं होगें आयोजन, सादगी से मनायेगें नवसंवत्सर महोत्सव

जयपुर 19 मार्च। भारतीय संस्कृति के पावन उत्सव चैत्र शुक्ल प्रतिपदा भारतीय नववर्ष नवसंवत्सर 2077 प्रारम्भ हो रहा है। इसके स्वागत के लिए प्रत्येक वर्ष 5 दिवसीय नवसंवत्सर उत्सव बडे ही धूमधाम से आयोजित किया जाता रहा है।  


संस्कृति युवा संस्था के अध्यक्ष एवं नवसंवत्सर उत्सव समारोह समिति के संरक्षक पण्डित सुरेश मिश्रा ने बताया कि 21 मार्च से 25 मार्च तक 5 दिवसीय विभिन्न कार्यक्रम को कोरोना वायरस से हो रहे खतरे को देखते हुये इसबार स्थगित कर दिये गये है। 

 

मिश्रा ने बताया कि पिछले 20 वर्षो से प्रत्येक वर्ष नवसंवत्सर उत्सव पर जयपुर शहर में नवसंवत्सर के स्वागत हेतु आठों  दिशाओ में श्वेत अश्व छोडने की परम्परा रही है। साथ ही नवसंवत्सर के दिन महायज्ञ और महाआरती का आयोजन होता रहा है, लेकिन इस वर्ष  कोरोना वायरस के कारण किसी को हानि ना हो इसलिये इन सभी कार्यक्रमों स्थगित किया जाता है। साथ ही नवसंवत्सर के स्वागत एवं बधाई हेतु सोषल मीडिया के माध्यम से संदेष दिये जायेगें और किसी भी प्रकार के कोई भी आयेाजन नहीं किये जायेगें। 


मिश्रा ने आमजन से भी आग्रह किया है कि कोरोना वायरस से बचाव हेतु घरो से बाहर कम से कम निकले और आने वाले त्यौहारों को घर बैठकर ही मनायें।