निरोगी कार्नर से जांच रहे हैं लोग अपनी फिटनेस
जयपुर। आजकल की भागदौड़ भरी व्यस्थ जिंदगी में आम आदमी अपने स्वास्थ्य पर उचित ध्यान नहीं दे पाता है। पौष्टिक आहार लेने और शारीरिक परिश्रम करने से दूर भागता है इसके चलते व्यक्ति को पता ही नहीं चल पाता है कि उसे कई बीमारियों ने घेर रखा है। निरोगी कार्नर के माध्यम से वह जांच सकता है कि वह फिट है या अनफिट। हमारे पूर्वजों ने सात सुखों जिसमें पहला सुख निरोगी काया, दूसरा घर में हो माया, तीसरा पतिव्रता नारी, चौथा पुत्र आज्ञाकारी, पांचवा हो सुन्दर वास, छठा हो सजन/सजनी पास, सातवां हो मित्र सच्चे शामिल किए हैं। 

 

राज्य सरकार की पहल पर चलाए गए निरोगी राजस्थान अभियान के अन्तर्गत पहला सुख निरोगी काया के लिए झालावाड़ जिला कलक्टर सिद्धार्थ सिहाग की अध्यक्षता में आयोजित जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में जिले के सभी सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर निरोगी कार्नर बनाने का निर्णय लिया गया। वर्तमान में मिनी साचिवालय, स्वास्थ्य भवन तथा सात सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर निरोगी कार्नर बनाए गए हैं। इस अभियान के अन्तर्गत लगे इन आईईसी कार्नर्स को संभागीय आयुक्त एल.एन. सोनी द्वारा सराहा गया है और अन्य तीन जिलों कोटा, बूंदी व बारां में इसी प्रकार के निरोगी कार्नर चिकित्सा संस्थानों में लगाने के निर्देश सभागीय आयुक्त द्वारा प्रदान किए गए हैं। 

 

क्या है निरोगी कार्नर 

 

निरोगी कार्नर एक भवन में एक कोना जिसमें लम्बाई नापने के लिए 7 फीट का फीता, टर्न आऊट चैक करने के लिए 6 फुट ऊंचाई का दर्पण तथा वजन के मापने के लिए वेट मशीन के साथ-साथ यूनिसेफ की ओर से जारी बॉडी मॉस चार्ट लगाया है। यदि कोई व्यक्ति निरोगी कार्नर पर जाकर वैट मशीन पर जाकर अपना वजन का माप करता है और यदि आपने वजन के अनुसार वह रेड लाइन में है और मोटा है तो उसे सही डाईट चार्ट अपनाकर कर कसरत, योग कर अपने आपको को फिट बनाने की आवश्यकता है। यदि वह अपने वजनानुसार ग्रीन लाइन के दायरे में आता है तो वह स्वस्थ है।

 

निरोगी राजस्थान कार्यक्रम के अन्तर्गत निरोगी आशा, निरोगी जनप्रतिनिधि, निरोगी कार्मिक, निरोगी विद्यार्थी व अन्य विभिन्न श्रेणी में फिट रहने के लिये प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी। प्रतियोगिता में भाग लेने के इच्छुक जिले का कोई भी नागरिक निरोगी झालावाड़ के वाट्स एप नम्बर 9414751821 पर बायो मास इन्डेक्स डिस्टर्ब के साथ सेल्फी भेज सकते हैं।

 

झालावाड़ जिले में निरोगी राजस्थान कार्यक्रम के अन्तर्गत जिले वासियों को स्वास्थ्य के प्रति जागरुक करने के उद्देश्य से ‘‘निरोगी बने- पुरस्कार पायें’’ व निरोगी आशा, निरोगी जनप्रतिनिधि, निरोगी कार्मिक, निरोगी विद्यार्थी व अन्य विभिन्न श्रेणी में प्रतियोगिता आरम्भ की गई है।