बेहतर सुविधा के साथ क्वारेंटाइन प्रोटोकाॅल पालना के लिए नोडल अधिकारी ने किया नई फेसिलीटज का निरीक्षण

नोडल अधिकारी प्रिंसीपल सेकेट्री अजिताभ शर्मा ने सभी सेंटर्स को प्रोटोकाॅल और बेहतर सुविधा प्रदान करने के हिसाब से हर समय तैयार रखने के दिए निर्देष


जयपुर। कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए जयपुर जिले के नोडल अधिकारी ऊर्जा विभाग के प्रमुख शासन सचिव अजिताभ शर्मा एवं जिला कलक्टर डाॅ.जोगाराम ने क्वारेंटाइन सेंटर के रूप में काम आने वाले नए अधिग्रहीत भवनों, फेसिलीटज का बुधवार को संयुक्त निरीक्षण किया एवं यहां क्वारंेटाइन किए गए व्यक्तियों को रखे जाने के लिए निर्धारित प्रोटोकाॅल की शत प्रतिषत पालना के लिए आवष्यक व्यवस्थाओं के सम्बन्ध में निर्देष दिए।


शर्मा ने बताया कि जिला प्रषासन द्वारा जयपुर में कुल 98 संस्थानों को बेहतर नए क्वारेंटाइन सेंटर के रूप काम लेने के लिए अधिग्रहीत कर लिया गया है।  इनमें शैक्षणिक संस्थानों के होस्टल्स, होटल एवं धर्मषालाएं आदि शामिल हैं। इन सभी में कुल मिलाकर करीब 4600 कमरे हैं जिनमें अटेच टायलेट की सुविधा है। ऐसी ही कुछ क्वारेंटाइन कम फेसिलिटी सेंटर्स का उन्होंने निरीक्षण किया जिनमे मनीपाल यूनिवर्सिटी अजमेर रोड, होटल कंचनदीप, होटल आषीष, कानजी पैलेस, होटल गोयल, षिवाज राॅयल, होटल माया इंटरनेषनल जैसे करीब एक दर्जन संेटर्स शामिल हैं। उन्होंने इन सेंटर्स में समुचित व्यवस्थाओं के लिए नियुक्त किए गए प्रभारी अधिकारी राज्य प्रषासनिक सेवा के अषोककुमार योगी, रामरतन शर्मा, नीरज मीणा, रामखिलाड़ी मीणा, मानसिंह मीणा को इन सेंटर्स को प्राथमिकता से तैयार रखने को कहा है जिससे आवष्यकता होेते ही लोगों को यहां लाया जा सके।


उन्होंने निर्देष दिए कि प्रारम्भ होने के बाद इन सेंटर्स में क्वारेंटाइन प्रोटोकाॅल की शत प्रतिषत रूप से पालना की जाए जिसमें यहां आने वाले व्यक्तियों की नियमित स्वास्थ्य जांच, उनके भोजन की समुचित व्यवस्था भी  रहनी चाहिए।  उन्होंने निर्देष दिए कि इस बात का विषेष ध्यान रखा जाए कि यहां क्वारेंटाइन किए जाने वालों में किसी भी तरह का आपसी सम्पर्क न हो सके। उनके द्वारा उपयोग लिए जा रहे टाॅयलेट की भी नियमित रूप से साफ-सफाई की जाए। अगर कोई बायोवेस्ट होता है तो उसके निस्तारण की भी प्रोटोकाॅल के अनुसार व्यवस्था होनी चाहिए।