देश भर के जंतुआलयों को कोविड-19 के खतरे का अलर्ट जारी

न्यूयॉर्क के जंतुआलय में एक बाघ के कोविड-19 महामारी के शिकार होने चलते केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण ने सभी राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों को चेताया


नई दिल्ली। केंद्रीय प्राधिकरण के सदस्य सचिव डॉ एस पी यादव ने सभी राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों के प्रमुख वन्य जीव संरक्षकों को आज एक चिट्ठी लिख कर सभी जन्तुआलयों में कोविड-19 महामारी से बचाव के प्रबंध करने का कहा है। इस सावधानी का अलर्ट इसलिए जारी किया गया है क्योंकि संयुक्त राज्य के न्यूयॉर्क स्थित ब्रोन्क्स ज़ू में एक बाघ के सार्स-सीओवी-2 (कोविड-19) से पीड़ित होने की पुष्टि हुई है। अमरीकी कृषि विभाग की नेशनल वेटेरिनरी सर्विसेस लेबॉरेटरीज़ ने पांच अप्रेल को एक वक्तव्य में न्यूयॉर्क के जन्तुआलय में एक बाघ के इस नई महामारी से पीड़ित होने की पुष्टि की।


इसी के अनुरूप केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण ने देश के सभी जंतुआलयों में चौबीसों घंटे चौकसी बरतने की सलाह दी है। चिड़ियाघरों के कर्मियों से कहा गया है कि वे क्लोज़ सर्किट टीवी के जरिये वन्य जीवों में किसी भी प्रकार के असामान्य व्यवहार या लक्षण पर नज़र रखें तथा उनकी सार संभाल करने वाले कर्मचारी बिना सुरक्षा कवच के किसी जन्तु के पास न जाये। बीमार जंतुओं को अन्यों से अलग कर दें तथा उन्हें क्वारंटाइन में रखें। उन्हें भोजन देते वक़्त कम से कम संपर्क रखें।


डॉ यादव ने अपने पत्र में कहा है कि ख़ासकर बिल्ली प्रजाति तथा वानर आदि मांसाहारी स्तनधारी जंतुओं पर विशेष निगरानी रखें तथा संदेह वाले मामलों में प्रत्येक पखवाड़े जांच के लिए नमूने लिए जाय और उन्हें कोविड-19 की जांच के लिए निर्धारित संस्थानों को भेजा जाय। ऐसा करते हुए भारी जोख़िम से बचने के बायो-मेडिकल उपाय किए जाय। पत्र में कहा गया है कि कोविड-19 से बचाव के लिए केंद्र सरकार द्वारा जारी प्रोटोकॉल की सख्ती से पालना की जाय। सभी जन्तुआलयों के कर्मियों को सलाह दी गई है कि वे निर्धारित नोडल एजेंसीज के साथ समन्वय रखें।