जनधन और किसान सम्मान निधि योजना से आदिवासी क्षेत्र के  लोगों को मिला सहारा

जयपुर। केंद्र सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण से निपटने  हेतु घोषित लॉकडाउन के दौरान गरीब तबके की मदद के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत ₹ 1.7 लाख करोड़ का पैकेज जारी किया गया है। देश में अकेले जनधन योजना के तहत 19.86 करोड़ महिलाओं के खाते में अप्रैल महीने की ₹500 किस्त पहुंच चुकी है। चालू वित्त वर्ष के मई और जून के महीने में भी महिलाओं को यह रकम मिलेगी। किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसान के खाते में ₹2000 की प्रथम किस्त जमा की जा रही है। इन दोनों योजनाओं का प्रदेश के लोगों को भी भरपूर लाभ मिला है। राज्य के जनजाति बहुल जिलों में तो ये योजनाएँ वरदान साबित हुई हैं।    


उदयपुर जिले की गोगुंदा तहसील के ग्राम चलवा की जरीना ने बताया कि लॉक डाउन के चलते वह किसी काम धंधे पर नहीं जा सकी, इस कारण से उसको आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा था, इस संकट की घड़ी में केंद्र सरकार ने उसके जन धन खाते में ₹500 की राशि जमा कराई, इससे उसके परिवार को आर्थिक संबल मिला। इसी जिले के खैरवाडा ब्लॉक के जवास गाँव की हसीना, सुनीता और जसोदा ने बताया कि केंद्र सरकार ने उनके जनधन खाते में रु 500 की राशि जमा करवाई है जिससे उनको परिवार चलाने में मदद मिली।


उदयपुर जिले के ही ग्राम टोकर की कमला और गीता पंड्या ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान मिली ₹750 वृद्धावस्ता महिला पेंशन से उनके परिवार को आर्थिक सहारा मिला। ग्राम बनेडिया की सीमा जैन प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत नि:शुल्क गैस सिलेंडर मिलने से प्रसन्न है। चलवा गाँव के भंवर लाल, ग्राम कमोल के किसान देवी सिंह ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में प्राप्त ₹2000 की राशि से डीजल खरीद और कृषि कार्य निपटाए।