महिलाओं के प्रति घरेलू हिंसा रोकने के लिये सरकार कृत संकल्प: मुख्यमंत्री
जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि कोरोना संकट के इस दौर में भी राज्य सरकार महिलाओं के प्रति घरेलू हिंसा रोकने एवं उनके प्रति अपनी जिम्मेदारी निभाने के लिए कृत संकल्प है। 

 

गहलोत ने शनिवार को मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित एक उच्चस्तरीय बैठक में कहा कि महिलाएं किसी भी तरह की घरेलू हिंसा एवं उन पर किये जा रहे अत्याचार की शिकायत महिला गरिमा हैल्पलाइन 1090 पर दर्ज करा सकती हैं। उन्होंने कहा कि गर्भवती महिलाओं एवं प्रसूताओं को इलाज में किसी तरह की परेशानी नहीं आए इसके लिए राज्य सरकार ने समुचित व्यवस्थाएं की हैं। विभिन्न जिलों में गर्भवती महिलाओं की ट्रेकिंग कर प्रसव की संभावित तारीख (डिलीवरी डेट) की जानकारी जुटाने एवं तय तारीख पर उनके प्रसव के लिए पूरी व्यवस्थाएं की गई हैं। 

 

मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन की इस अवधि के दौरान महिलाएं घरों की बेहतर देखभाल करने के साथ ही कोविड-19 महामारी से लड़ाई में डॉक्टर, नर्स, आशा सहयोगिनी, स्वच्छताकर्मी, शिक्षक, प्रशासनिक अधिकारी एवं अन्य क्षेत्रों में कर्मठता के साथ कोरोना वॉरियर्स के रूप में अपनी भूमिका निभा रही हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान माहौल में महिलाओं के प्रति अपनी जिम्मेदारी में राज्य सरकार किसी तरह की कोताही नहीं बरतेगी। बैठक में चिकित्सा मंत्री डॉ. रघु शर्मा, मुख्य सचिव डी.बी. गुप्ता, एसीएस गृह राजीव स्वरूप, एसीएस हैल्थ रोहित कुमार सिंह उपस्थित थे।