राजस्थान में कोरोना की रोकथाम में ग्राम पंचायतें निभा रहीं हैं अपनी भूमिका

जयपुर। देश में कोरोनो महामारी के संक्रमण की रोकथाम के लिए केंद्र और राज्य सरकारें, चिकित्सा एवं स्वास्थ्यकर्मी, सुरक्षा बल और पुलिस, आवश्यक सेवाओं से जुड़े अधिकारी और कर्मचारी और कई अन्य संस्थान अपना-अपना योगदान कर रहें हैं। वहीं ग्रामीण क्षेत्र में इस महामारी को लेकर जागरूकता फैलाने में प्रदेश की ग्राम पंचायते भी भागीदारी निभा रही हैं, जिसकी केन्द्रीय पंचायती राज विभाग ने भी सराहना की है और अन्य राज्यों को इन उपायों को अपनाने की सलाह दी है। 


प्रदेश में लॉकडाउन की स्थिति में जब सोशल डिस्टेन्सिंग जरूरी है, ग्राम पंचायतों द्वारा व्हाट्स एप ग्रुप बनाकर कोरोना से बचाव की जानकारी दी जा रही है।  ग्रामीणों को सलाह दी जा रही है कि वे अपने हाथ से पोस्टर बनाकर गांवों में प्रमुख स्थानों पर चिकपाए ताकि लोग जागरूक हो सकें। कुछ ग्राम पंचायतों ने इस महामारी को फैलने से रोकने के लिए साफ-सफाई सुनिश्चित करने का बीड़ा उठाया है। हनुमानगढ़ जिले की माक्कासर ग्राम पंचायत द्वारा गाँव की सड़कों पर सोडियम हाइपोक्लोराइट का छिड़काव करवाया जा रहा है।


प्रदेश की कुछ अन्य ग्राम पंचायतों में स्वयं सहायता समूहों और कुछ सेवाभावी लोगों द्वारा मास्क तैयार किए जा रहे हैं और ग्रामीणों को नि:शुल्क बांटे जा रहे हैं। ग्रामवासियों को अपने हाथ बार-बार साबुन से अच्छी तरह धोने और मुंह, नाक और आँख को न छूने की सलाह दी जा रही है। इसी तरह एक दूसरे से सुरक्षित दूरी बनाए रखने को कहा जा रहा है। कुछ गांवों में सामाजिक संगठनों की मदद से राशन और पशुओं के लिए चारे की व्यवस्था भी की जा रही है।