अधिकांष जिलों में सभी मेगा इकाइयों सहित राज्य की 89 फीसदी मेगा इण्डस्ट्रीज में औद्योगिक उत्पादन शुरु: उद्योग मंत्री


जयपुर। उद्योग व राजकीय उपक्रम मत्री परसादी लाल मीणा ने बताया है कि राज्य की 89 फीसदी मेगा औद्योगिक इकाइयोें में उत्पादन कार्य आरंभ हो गया है वहीं करीब दो तिहाई वृहदाकार औद्योगिक इकाइयों मेें उत्पादन शुरु हो गया है। उन्होने बताया कि अधिकांष जिलों में स्थापित मेगा इकाइयों में से शतप्रतिषत इकाइयों ने उत्पादन शुरु कर दिया है।


उद्योग मत्री मीणा ने बताया कि प्रदेष में 110 मेगा इण्डस्ट्रीज और 438 बड़े आकार की औद्योगिक इकाइयां स्थापित है। मुख्यमंत्री अषोक गहलोत के औद्योगिक परिसंघों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से सीधे संवाद, नियमित समीक्षा, प्रक्रिया के सरलीकरण और औद्योगिकों इकाइयों मंे उत्पादन आरंभ कराने के लिए त्वरित निर्णयों का परिणाम है कि प्रदेष की मेगा और बड़े आकार की इण्डस्ट्रियों ने उत्पादन कार्य शुरु करने की पहल की है। उन्होंने बताया कि प्रदेष में बड़ी संख्या में एमएसएमई इकाइयों में काम आरंभ हुआ है।


उद्योग मंत्री मीणा ने बताया कि विभाग द्वारा राजधानी जयपुर से लेकर जिलों व औद्योगिक क्षेत्रों तक समन्यय और मोनेटरिंग की नियमित व्यवस्था से प्रदेष में औद्योगिक गतिविधियां पटरी पर आने लगी है। प्रदेष में औद्योगिक इकाइयों में राज्य सरकार के प्रति विष्वास जगा है और वे उत्पादन शुरु करने के लिए आगे आने लगे हैं।


अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि प्रदेष के अघिकांष स्थानों पर स्थापित मेगा और बड़े आकार की औद्योगिक इकाइयों ने उत्पादन आरंभ कर दिया है। उन्होंने बताया कि जयपुर, भीलवाड़ा जोधपुर आदि में स्थानों पर कर्फ्यू की स्थिति के कारण कुछ बड़ी और मेगा इकाइयों द्वारा चाहते हुए भी उत्पादन आरंभ नहीं किया जा सका है।


डॉ. अग्रवाल ने बताया कि प्रदेष में 110 में से 98 मेगा इण्डस्ट्रीज ने उत्पादन शुरु कर दिया है वहीं 438 वृृहदाकार औद्योगिक इकाइयों में से लगभग दो तिहाई 289 इण्डस्ट्रीज मेें उत्पादन षुरु हो गया है। उन्होंने आषा व्यक्त की कि जल्दी ही प्रदेष की शेष रही सभी मेगा व वृहदाकार इकाइयां उत्पादन षुरु कर देगी। उन्होंने बताया कि प्रदेष मंे लगभग सभी सीमेंट इकाइयों, अधिकांष खाद्य तेल मिलों सहित विभिन्न प्रकार की इकाइयों ने काम करना शुरु कर दिया है।


उद्योग आयुक्त मुक्तानन्द अग्रवाल ने राज्य के सबसे प्रमुख औद्योगिक केन्द्र भिवाड़ी-नीमराणा में 93 में से 86 बड़े आकार की और 45 मेें से 36 मेगा उद्योगों में उत्पादन शुरु हो गया है। उन्होंने बताया कि भिवाडी में हौण्डा कार्स, हौण्डा मोटर साईकिल, ग्लास की फ्रांस बेस्ड मेगा इकाई सेंट गोबेन, जर्मनी की फूड सेक्टर की डॉक्टर ओटकर, एसआरएफ केमिकल्स, कजारिया सिरेमिक्स, नाहर स्पिनिंग, डाईकिन एअर कण्डीषनिंग, पारले बिस्कुट, निषिन ब्रेक, अलवर की विजय साल्बेक्स, कोटा की चंबल फर्टिलाइजर, डीसीएम श्रीराम के साथ ही अडानी विल्मर, काण्डा ऑयल मिल, रुचि सोया, खंडेलिया ऑयल मिल, मणीषंकर ऑयल मिल जैतपुरा, श्री हरी ऑयल मिल, गोयल वेज ऑयल कोटा, षिव एडिवल, भवानी फेट्स, श्री फेेट एण्ड प्रोटिन सहित कई जानी मानी खाद्य तेल मिलों में उत्पादन हो रहा है।


आयुक्त अग्रवाल ने बताया कि सीमेंट सेक्टर मे अल्ट्राटेक, बिरला उत्तम, बिडला सीमेंट वर्क्स, अंबुजा, एसीसी, जेके सुपर, श्री सीमेंट, डीएससीएल, वण्डर सीमेंट, नुवोको, जेके और निरमेक्स के सीमेंट प्लांटों पर उत्पादन हो रहा है। उन्होंने बताया कि अजमेर, अलवर, बांसवाड़ा, बाड़मेर, चित्तोडगढ़, कोटा, पाली, डूंगरपुर, राजसमन्द, सिरोही, सीकर और उदयपुर की सभी मेगा इकाइयों में काम आरंभ हो गया है।