हिंदू साम्राज्य दिनोत्सव विशेष सप्ताह में समाज को शिवाजी महाराज से जोड़ेगा संघ 
जयपुर। कोरोना संक्रमण के दौर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की शाखाएं मैदान पर नहीं स्वयंसेवकों घरों पर नियमित रूप से लग रही हैं। स्वयंसेवक विभिन्न डिजिटल माध्यमों से संघ कार्य में जुटे हुए हैं। ऐसे में संघ की बैठक व उत्सव आदि कार्यक्रम भी डिजिटल माध्यमों से ही संपन्न हो रहे हैं। इसी क्रम में संघ के 6 उत्सवों में से  एक हिन्दू साम्राज्य दिनोत्सव के अवसर पर जयपुर प्रांत में हिन्दू साम्राज्य दिनोत्सव सप्ताह मनाया जाएगा। इसके तहत कई कार्यक्रम आयोजित करके समाज को शिवाजी महाराज से जोड़ने का प्रयास किया जाएगा। 

 

प्रांत कार्यवाह गेंदालाल ने बताया कि 31 मई से 6 जून 2020 तक प्रान्त में "हिन्दू साम्राज्य दिनोत्सव सप्ताह" मनाने की योजना बनी है। इस उत्सव का उत्साह निर्माण सम्पूर्ण हिन्दू समाज में होना चाहिए, इस हेतु प्रत्येक दिन के अनुसार कुछ कार्यक्रम तय किये गए हैं। उन्होंने बताया कि प्रथम दिवस 31 मई, रविवार को उद्घाटन सत्र रहेगा, जिसने हिंदू सामराज्य दिवस के अवसर पर 4 जून को बौद्धिक वर्ग रखने वाले कार्यकर्ताओं का जिला स्तर पर प्रशिक्षण किया जाएगा। सप्ताह के दूसरे दिन 01 जून, सोमवार को हिन्दू परिवारों में बालकों को शिवाजी के बाल रूप से परिचित कराने, शिवाजी के बाल्यकाल से सम्बंधित घटनाओं, कथाओं, फिल्मों, गीत-कविताओं का उपयोग करते हुए योजना बनाना, संघ के विद्यार्थी भाग के स्वयंसेवको को ध्यान में रखते हुए कथा-कहानी के माध्यम से विषय रखना समेत मैं हूं बाल शिवाजी नामक आयोजन किया जाएगा। 

 

इसी प्रकार तृतीय दिवस 02 जून, मंगलवार को "मैं हूँ जीजामाता" विषय पर परिवारों में मातृशक्ति को जीजामाता बनने की प्रेरणा देने वाले प्रसंगों के माध्यम से प्रबोधन करना, जीजामाता विषय पर बौद्धिक, प्रश्नावली, फ़िल्म-गीत इत्यादि विद्याओं का उपयोग करते हुए जीजामाता के चरित्र से अवगत कराया जाएगा। सप्ताह के चतुर्थ दिवस 03 जून, बुधवार मैं शिवाजी विषयक कार्यक्रम में शिवाजी के तरूणवय से युवाओं को परिचित कराना, इस आयु में शिवाजी के साथी योद्धा रहे जैसे- बाजीप्रभु देशपाण्डे, तानाजी मालुसरे, येसाजी कंक, जीवा माल्हा, शिवा नाई इत्यादि की घटनाओं को सामने रखना, इन विषयों पर फ़िल्म, गीत, नाटक दिखाना। प्रश्न मंच/प्रश्नोत्तरी का आयोजन किया जाएगा। उन्होंने बताया कि पंचम दिवस 04 जून, गुरुवार को हिन्दु साम्राज्य दिनोत्सव का मुख्य कार्यक्रम आयोजित होगा। इसमें उपखण्ड/बस्ती/शाखा स्तर पर सपरिवार बौद्धिक वर्ग का आयोजन एवं प्रत्येक हिन्दू घर में शिवाजी के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करना व हिन्दु साम्राजय दिवस की चर्चा करते हुए उत्सव मनाया जाएगा।

 

इसके साथ ही समाज के अधिकांश घरों में यह कार्यक्रम आयोजित हो इसके लिए स्वयंसेवकों द्वारा प्रयास किए जाएंगे। इसी प्रकार षष्टम-सप्तम दिवस पर 05-06 जून को हिन्दवी साम्राज्य की विशेषताएँ इन दो दिनों में समाज के बुद्धिजीवी वर्ग (अधिवक्ता, चिकित्सक, प्राध्यापक, उद्योगपति, सीए, सामाजिक कार्यकर्ता, सामाजिक सद्भावना बैठक की सूची, संपर्क सूची के लोग तथा संघ के कार्यविभाग, गतिविधियां होंगी तथा विविध संगठनों से जुड़े हुए समाज-बंधु-भगिनी) इनको वेबीनार तथा अन्य साधनों के द्वारा शिवाजी महाराज द्वारा हिंदू साम्राज्य के उत्थान के लिए किये गए धार्मिक, सामाजिक, आर्थिक, राजनीतिक सुधार/नवाचार जिनके कारण हिंदवी साम्राज्य शिवाजी के बाद भी विदेशी-विधर्मियों से लोहा लेता रहा तथा उनके द्वारा किये गए सुधार आज भी प्रासांगिक है, उन पर चर्चा, विचार गोष्ठी/प्रबोधन इत्यादि करवाए जायेंगे। शिवाजी महाराज के साम्राज्य की विशेषताएँ एवं वर्तमान समय में शिवाजी महाराज की प्रासांगिकता पर चर्चा की जाएगी।