कर्नल राज्यवर्धन खेतों में पहुंचे, ओलावृष्टि से हुए नुकसान का लिया जायजा।

जयपुर। पूर्व केन्द्रीय मंत्री और सांसद जयपुर ग्रामीण कर्नल राज्यवर्धन राठौड़ आज मंगलवार को किसानो के खेतों में पहुंचे और जमवारामगढ़, शाहपुरा, विराटनगर एवं बानसूर में पिछले दो दिनों में हुई ओलावृष्टि से फसल खराबे का जायजा लिया साथ ही तेज अंधड से मृतक के परिजनों से मिलकर उन्हें ढ़ांढस बधाया। फसल खराबे को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से बात की और शीघ्र गिरदावरी करवाकर शीघ्र मुआवजे की मांग की, जिसपर मुख्यमंत्री ने शीघ्र गिरदावरी करवाकर आगे की कार्यवाही करने का आश्वासन दिया।


इससे पूर्व कर्नल राज्यवर्धन जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में हुई आतंकी मुठभेड में शहीद कर्नल आशुतोष शर्मा की अंत्येष्ठी में पहुंचे और उनकी पार्थिव देह पर पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। उन्होंने शोक संतप्त परिवार को ढांढ़स बधाते हुए कहा कि इस दुःख की घड़ी में पूरा देश आपके साथ है, देश अपने वीर जवानों की शहादत को हमेशा याद रखेगा।


कर्नल राज्यवर्धन ने जमवारामगढ़ एसडीएम, बीडीओ, तहसीलदार एवं अन्य प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक कर कोरोना, और गर्मी में पेयजल की व्यवस्थाओं के सम्बन्ध में आवश्यक दिशानिर्देश दिए। इस दौरान उन्होंने कहा कि तेज गर्मी के चलते क्षेत्र में हमेशा पानी की किल्लत बनी रहती है, इसलिए पानी के टैंकरों की व्यवस्था करने के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए।  


कर्नल राज्यवर्धन ने बानसूर में डाॅक्टर्स के लिए पीपीई किट एवं मास्क उपलब्ध करवाए है डाॅक्टर्स के लिए पीपीई किट की कमी से सांसद को अवगत करवाया गया था जिसपर उन्होंने त्वरित कार्यवाही करते हुए पीपीई किट उपलब्ध करवाए एवं शीघ्र ही ओर पीपीई किट उपलब्ध करवाने का आश्वासन दिया है। कर्नल राज्यवर्धन ने यहां तूफान से क्षतिग्रस्त गौशाला का दौरा कर इसे ठीक करवाने के निर्देश दिए है, तेज तूफान के कारण गौशाला को भारी नुकसान पहुंचा था।


कर्नल राज्यवर्धन ने जमवारामगढ़ में सायपुरा, शाहपुरा में देवन, जाजेकलां, विराटनगर में जवानपुरा, चतरपुरा, बीलवाड़ी, नवरंगपुरा, पालड़ी, मैढ़, लुहाकना, भाभरू, ढ़ाणी गैसकान आदि स्थानों का तहसीलदार, एसडीएम को साथ लेकर दौरा किया। कर्नल राज्यवर्धन ने कहा कि क्षेत्र में अनेक स्थानो पर हुई अत्यधिक ओलावृष्टि हुई है जिसके कारण तैयार खड़ी फसलों को काफी नुकासन पहुंचा है जिससे किसान काफी निराश है। इस दौरान पूर्व विधायक डाॅ. फूलचन्द भिण्डा भी कर्नल राज्यवर्धन के साथ रहे।