राजस्थान के उद्योग और व्यापार जगत द्वारा आत्म निर्भर भारत अभियान के तहत घोषित आर्थिक पैकेज का स्वागत  

जयपुर। राजस्थान के उद्योग और व्यापार जगत ने आत्म निर्भर भारत अभियान के तहत घोषित आर्थिक पैकेज का व्यापक स्वागत किया है। अनेक औद्योगिक और व्यापारिक संगठनों ने इस अभियान के तहत केन्द्रीय वित्त मंत्री द्वारा सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग के लिए की गई घोषणाओं की भी सराहना की है। अधिकांश उद्योगपतियों और व्यापारियों का मानना है कि इससे सभी प्रकार के उद्योगों को लॉकडाउन से लगे झटके से उबरने में मदद मिलेगी।


झालावड ज़िले के झालरापाटन व्यापार महासंघ के अध्यक्ष श्री विजय मेहता ने वित्तीय पैकेज का स्वागत  करते हुए कहा कि कोरोना की मार झेल रहे उद्योगों को पैकेज में किए गए प्रावधानों से नई ऊर्जा मिलेगी। कुटीर, छोटे और मझौले उद्योग इस प्रावधानों से काफी राहत महसूस कर रहे हैं।


करौली में कौंट्रेक्टर एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष श्री योगेश उपाध्याय ने वित्तीय पैकेज में कौंट्रेक्ट के पूरा होने की समयावधि में की गई बढ़ोतरी के लिए केंद्र सरकार का आभार व्यक्त किया है। बिना गारंटी लोन दिये जाने के फैसले का भी उन्होंने स्वागत किया है। बूंदी के कर सलाहकार श्री मनीष मंत्री ने आत्म निर्भर भारत के तहत की गई घोषणाओं का स्वागत करते हुए कहा कि इससे देश के पुनर्निर्माण और पुनरुथान में बहुत मदद मिलेगी। स्वदेशी की नीति अपनाने से देश का पैसा देश में ही रहेगा।


टोंक जिले के आयल मिल एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री लोकेश जैन ने कहा कि इस आर्थिक पैकेज से उद्योगों को जीवनदान मिलेगा। बीकानेर के व्यापरी श्री मोहन सुराना का कहना है कि टी डी एस कटौती में दी गई छूट से व्यापारियों को राहत मिलेगी। यह सम्पूर्ण पैकेज देश के औद्योगिक परिदृश्य को नई दिशा देने में मील का पत्थर साबित होगा। दौसा जिले में रीको इंडस्ट्रीज बस्सी के अध्यक्ष श्री राजेंद्र कासलीवाल ने कहा कि बिना गारंटी कर्ज दिये जाने से अनेक कुटीर और छोटे उद्योगों को पनपने में सहायता मिलेगी। उन्होंने कुछ उद्योगों के वर्गीकरण के लिए टर्नओवर की सीमा घटाए जाने के निर्णय का भी स्वागत किया।