कक्षा एक से 12 तक पाठ्यक्रम का ई-कन्टेन्ट भी उपलब्ध कराया जाएगा: शिक्षा राज्य मंत्री
राज्य सरकार ने त्रिपक्षीय सहमति पत्र पर किए हस्ताक्षर, राज्य के 100 विद्यालयों में स्मार्ट क्लासरूम होंगे स्थापित

 

जयपुर। राज्य के चयनित 100 राजकीय विद्यालयाें में एक करोड़ 85 लाख की लागत से स्मार्ट क्लासरूम लगाए जांएगे। शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा ने बताया कि राज्य सरकार द्वारा इसके लिए पावर ग्रिड कॉरपोरेशन ऑफ इण्डिया, एजूकेशनल कॉन्स्युटेंट इण्डिया लिमिटेड के मध्य एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किया गया है। इसके तहत प्रदेश के 100 विद्यालयों में स्मार्ट क्लासरूम लगाने के साथ ही कक्षा एक से 12 तक पाठ्यक्रम का ई-कन्टेन्ट भी उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि सभी 100 विद्यालयों के प्रत्येक विद्यालय के 4 शिक्षकाें को स्मार्ट क्लासरूम में पढ़ाने के लिए बाकायदा प्रशिक्षित भी किया जाएगा।

 

डोटासरा ने बताया कि यह भी तय किया गया है कि जिन विद्यालयों में स्मार्ट क्लासरूम स्थापित किए जाएंगे वहां भविष्य में उनके रख-रखाव और अध्ययन-अध्यापन में किसी तरह की बाधा नहीं हो। उन्होंने बताया कि ऎसे विद्यालयों में स्मार्ट क्लासरूम स्थापित किए जाने को प्राथमिकता दी गयी है जो सुदूर स्थानों पर हों और जहां कम्यूटर शिक्षक, प्रयोगशाला सहायक पदस्थापित हों, ताकि स्मार्ट क्लासरूम का समुचित उपयेाग हो सकें। 

 

उन्होंने कहा है कि कोरोना के इस दौर में ऑनलाईन पढ़ाई के लिए राज्य सरकार की यह महत्वपूर्ण पहल है। उन्होंने बताया कि इसके तहत राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजना ‘महात्मा गॉंधी अंग्रेजी माध्यम विद्यालय’ के अंतर्गत आने वाले राजकीय विद्यालयों को डिजीटल एजूकेशन से जोड़ने के लिए प्रदेश के 33 राजकीय विद्यालयों में भी डिजीटल स्मार्ट क्लासरूम लगाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि इसी तरह ‘सेंटर ऑफ एक्सीलेंट’ के अंतर्गत मुख्यमंत्री विद्यादान कोष से विकसित किए जा रहे चयनित 33 राजकीय विद्यालयों में भी सहमति पत्र के अंतर्गत स्मार्ट क्लासरूम लगाए जाएंगे। इसके अलावा राज्य के एक मात्र खेल विद्यालय होने के कारण राजकीय सार्दुल स्पोर्ट्स स्कूल, बीकानेर में भी स्मार्ट क्लासरूम लगाया जाएगा।