कोरोना महामारी के संक्रमण से बचाव के लिए जागरुकता अभियान में कोताही नहीं बरतें, प्रोएक्टिव बनें: महेंद्र सोनी

जयपुर। कोरोना महामारी के संक्रमण से बचाव के लिए राजस्थान में 21 जून से 30 जून 2020 तक चलाए जाने वाले जागरुकता अभियान को ध्यान में रखते हुए सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के आयुक्त महेन्द्र सोनी ने गुरूवार को सभी जिलों के प्रभारी सूचना एवं जनसम्पर्क कार्यालय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की।

 

इस अवसर पर आयुक्त सोनी ने कहा कि मुख्यंत्री अशोक गहलोत  की मंशा के अनुरूप गांव-गांव, ढाणी-ढाणी, मोहल्ले-मोहल्ले तक कोरोना से बचाव के लिए जागरुकता पहुंचानी है। इसके लिए समाचार पत्र, टेलीविजन, एफएम रेडियो, होर्डिंग्स, डिजिटल वॉल पेंटिंग, सन बोर्ड, सन पैक, पोस्टर, बैनर आदि माध्यमों से प्रदेश की जनता को जागरुक किया जाएगा।




उन्होंने जनसम्पर्क सेवा के सभी अधिकारियों को जन जागरुकता अभियान के बारे में विस्तार से बताया और लोगों को दो गज की दूरी बनाए रखने, बिना मास्क बाहर न निकलने, साबुन से बार-बार हाथ धोने और सार्वजनिक स्थलों पर न थूकने जैसी प्रमुख बातों के बारे में जागरुकता फैलाने के लिए कहा। उन्होंने सभी प्रभारी सूचना एवं जनसम्पर्क कार्यालय को गांव-गांव तक प्रचार सामग्री पहुंचाने और लगवाने के निर्देश दिए।

 

उन्होंने जिलों में अन्य विभागों को भी कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए चलाए जाने वाले प्रचार-प्रसार अभियान से जोड़ने के निर्देश दिए। उन्होंने कोताही के बजाय प्रोएक्टिव अप्रोच के साथ जागरुकता अभियान को सफल बनाने के निर्देश दिए।

 

उन्होंने कहा कि जनसम्पर्क अधिकारी भी कोरोना वॉरियर्स की तरह काम कर रहे हैं। कोरोना काल में राजस्थान में जनसम्पर्क ने नए आयामों को छुआ है। इस दस दिवसीय जागरुकता अभियान के दौरान भी यह गति कायम रखनी चाहिए। सभी जिला जनसम्पर्क कार्यालय प्रभारियों को पूरे उत्साह और जोश के साथ कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जागरुकता अभियान को सफल बनाने का आह्वान किया।

 

इस अवसर पर अतिरिक्त निदेशक (प्रशासन) राजपाल सिंह यादव, अतिरिक्त निदेशक (सूजस) प्रेमप्रकाश त्रिपाठी, अतिरिक्त निदेशक अलका सक्सेना, वित्तीय सलाहकार सुभाष दानोदिया, संयुक्त निदेशक समाचार अरुण जोशी, संयुक्त निदेशक विज्ञापन शिवचंद मीना और उप निदेशक प्रकाशन राजेश व्यास भी उपस्थित थे।