मजदूर संघ का धरना : श्रम विरोधी नीतियों व सार्वजनिक क्षेत्र बचाने की मांग 


जयपुर। सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रमों का निजीकरण, विनिवेश व श्रम कानूनों में मजदूर विरोधी परिवर्तन के निर्णय के विरोध में भारतीय मजदूर संघ ने 10 जून का प्रदेशव्यापी धरना-प्रदर्शन किया।


बीएमएस के प्रदेश महामंत्री दीनानाथ रूंथला ने बताया कि ज्ञापन देकर श्रम विरोधी नीतियों में परिवर्तन की मांग की गई है। सरकार द्वारा सुनवाई नहीं करने व निजिकरण की नीति को वापस नहीं लेने पर आगामी दिनों में अनिश्चितकालीन धरना-प्रदर्शन जैसे आंदोलन किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि बताया कि यह सांकेतिक धरना सभी संगठनों द्वारा राजस्थान के सभी जिला मुख्यालयों खण्ड व इकाई स्तर तक आठ सौ स्थानों पर हुआ।