फसल बीमा योजना की विलेज मेपिंग एवं आधार मिस मैचिंग से संबंधित समस्याओं का तुरंत निस्तारण करें: प्रमुख शासन सचिव कृषि

जयपुर। प्रमुख शासन सचिव कृषि नरेशपाल गंगवार ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) के तहत विलेज मेपिंग एवं आधार मिस मैचिंग से संबंधित समस्याओं का तुरंत निस्तारण करने के निर्देश दिए, ताकि कोई पात्र काश्तकार बीमा क्लेम से वंचित नहीं रहे। वह मंगलवार को यहां पंत कृषि भवन में वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, टिड्डी प्रकोप एवं नियंत्रण, खरीफ आदान अनुदान तथा राज किसान साथी पोर्टल की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे।

 

प्रमुख शासन सचिव गंगवार ने अधिकारियों को इस साल फसल बीमा योजना में हुए बदलावों का ग्राम स्तर तक प्रचार-प्रसार कर किसान तक जानकारी पहुंचाने के निर्देश दिए। उन्होंने जिला कलक्टर, कृषि विभाग, टिड्डी चेतावनी संगठन एवं राजस्व विभाग को स्थानीय काश्तकारों के सहयोग से समन्वित प्रयास कर प्रभावी टिड्डी नियंत्रण के निर्देश दिए। श्री गंगवार ने पात्र किसानों को मक्का एवं बाजरा बीज का वितरण समय पर व्यवस्थित तरीके से करने तथा किसान साथी पोर्टल का कार्य निर्धारित समय सीमा में पूरा करने के निर्देश दिए। 

 

कृषि आयुक्त डॉ. ओमप्रकाश ने बताया कि फसल बीमा योजना में विलेज मेपिंग सही करने का यह अंतिम अवसर है। इसलिए सभी जिला स्तरीय अधिकारी शीघ्र यह कार्य संपादित कर अंडर टेकिंग भिजवाएं। उन्होंने आधार मिस मैचिंग की समस्या का समुचित निस्तारण करने के निर्देश दिए, ताकि किसी काश्तकार को बेवजह बीमा क्लेम से वंचित नहीं रहना पड़े। उन्होंने कहा कि इसके लिए जिला लीड बैंक मैनेजर आधार मिस मैचिंग वाले किसानों की सूची कृषि उप निदेशकों को दें। वह काश्तकार के अपडेटेड आधार नम्बर की सूची लीड बैंक मैनेजर को सौंपेगे, जिसे संबंधित बैंक को देकर आधार नम्बर अपडेट कराएं। उन्होंने बताया कि इच्छुक ऋणी किसान आगामी 8 जुलाई तक बैंक में निर्धारित आवेदन पत्र भरकर फसल बीमा योजना से अलग हो सकते हैं। 

 

डॉ. ओमप्रकाश ने टिड्डी नियंत्रण के लिए किए जा रहे प्रभावी प्रयासों का जिक्र करते हुए अधिकारियों को स्थानीय स्तर पर उपलब्ध संसाधनों की मेपिंग करने, किसानों को प्रशिक्षित करने और कीटनाशक का अनावश्यक उपयोग नहीं करने के निर्देश दिए। 

 

वीडियो कॉन्फ्रेंस में संयुक्त शासन सचिव कृषि एसपी सिंह सहित कृषि विभाग एवं राज्य स्तरीय बैंकिंग समिति के उच्च अधिकारी उपस्थित थे। सभी जिलों के कृषि अधिकारी एवं लीड बैंक मैनेजर वीसी से जुड़े हुए थे।