शिकायतें और सुझाव मांगने वाले मुख्यमंत्री भ्रष्टाचारियों पर भी कार्रवाई करेंगे या खुद भी मौन रहेंगे: डॉ अलका गुर्जर

बैखोफ भ्रष्टाचारियों का जंजाल राजस्थान की जनता हताश

जयपुर। भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय मंत्री डॉ अलका गुर्जर ने कोरोना बचाव  नीतियों की आड़ में लगातार हो रहे भ्रष्टाचार  पर  राजस्थान सरकार की अनदेखी को निशाना बनाते हुए कहा कि कोरोना रूपी वैश्विक आपदा से जहां पूरा देश जूझ रहा है, हर नागरिक अपने भविष्य को लेकर चिंतित है वही राजस्थान में कोरोना से बचाव की आड़ में भ्रष्ट लोग सरकारी खजाने को चूना लगाने में लगे हुए हैं और नवाचार के नाम पर जनता से सीधे ई-मेल पर जुड़ने का प्रचार करने वाले मुख्यमंत्री पता नहीं क्यों मौन है??


डॉ अलका गुर्जर ने कहा कि लोकतंत्र का चौथा आधार स्तंभ मीडिया कोरोनाकाल की शुरुआत से ही राजस्थान सरकार को नित नए घोटाले और लूटखोरी को उजागर कर जगाने का प्रयास कर रहा है लेकिन पता नहीं क्यों सरकार के मुखिया और अन्य जिम्मेदार लोग अभी तक नजरअंदाज कर रहे हैं जिसका फायदा ये सभी भ्रष्टाचारी पूरी तरह से उठा रहे हैं।


  डॉ गुर्जर ने कहा कि मीडिया के माध्यम से सभी को पता चल चुका है कि मास्क घोटाला, पीपीई किट घोटाला, जांच के लिए एंटीबॉडी टेस्ट किट खरीद घोटाला, सैनिटाइजर  घोटाला और अनेकों अन्य करोड़ों रुपए के इन घोटालों ने इस कोरोना कहर में मासूम जनता की खून पसीने की कमाई को धता बताते हुए सिर्फ कुछ  भ्रष्टाचारियों को पीढ़ियों तक के लिए निहाल कर दिया है लेकिन पता नहीं क्यों सरकार और मुखिया अनभिज्ञ होने का दिखावा कर रहे हैं जिससे मानवता का चीर हरण करने वाले इन अमानुषों के हौंसले बुलंद हो रहे हैं ।


डॉ अलका गुर्जर ने कटाक्ष करते हुए कहा कि कुछ माह पूर्व भी सीएम रिलीफ फंड के लिए पैसा उगाने के नाम पर राजधानी के निकटवर्ती एरिया में से 85 लोगों से 32 लाख रुपए लेकर एक भ्रष्ट अधिकारी द्वारा कच्ची रसीद दे देने की खबर भी मीडिया में आई थी लेकिन कार्रवाई क्या हुई, जनता आज भी इंतजार कर रही है।

 

डॉ अलका गुर्जर ने कहा कि राजस्थान में कोरोना का कहर जितना बढ़ रहा है उससे चौगुनी तेजी से इन  भ्रष्टाचारियों का हौंसला बढ़ रहा है , मैं  मुख्यमंत्री जी से मांग करूंगी की  तुरंत कदम उठाएं और उचित जांच करवा कर  इस विषम समय में भी  राजकोष में सेंध लगाकर करोड़ों रुपए का गबन करने के खेल में लिप्त सभी लोगों   व सुपरवाईजरी नेगलिजेंसी के लिये भी जिम्मेदारों पर  कानूनी कार्यवाही कर  राजस्थान की पहले से पीड़ित जनता को और ज्यादा लहूलुहान होने से बचाएं।